Rohtas:पंचायत के मुखिया परिवार नियोजन के महत्व को पूरे पंचायत वासियों को बताएंगे

जिसमें बताया गया है कि एक बच्चे के दूसरे बच्चे के जन्म के बीच कम से कम 2 साल का अंतर होना चाहिए। 5 वर्ष से अधिक या 2 वर्ष से कम आयु के बच्चे को जन्म देने वाली मां और बच्चे के स्वास्थ्य पर गंभीर प्रभाव पड़ता है। महिलाओं को बताया गया कि जन्म देने का खर्चा देना। क्‍योंकि परिवार में बच्‍चों की संख्‍या बढ़ने के साथ ही गर्भ और जन्‍म के चिकित्‍सा उपचार के साथ-साथ बच्‍चों के भरण-पोषण और पालन-पोषण पर भी काफी पैसा खर्च करना पड़ता है। सभी माता-पिता का यह कर्तव्य है कि वे अपने बच्चों के लिए भोजन, वस्त्र, आवास, शिक्षा की व्यवस्था करें। अगर किसी परिवार ने परिवार नियोजन को अपनाया है तो उसकी आर्थिक स्थिति को स्थिर रखने में बहुत मदद मिलती है। जिला समन्वयक श्यामसुंदर राय ने बताया कि गर्भनिरोधक के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए एक या एक से अधिक तरीकों का इस्तेमाल किया जा रहा है. परिवार नियोजन संसाधनों में रुचि पिछले कुछ वर्षों में बढ़ी है और इसलिए मांग भी बढ़ी है।

युगल परामर्श से संपर्क किया गया है

27 नवंबर से 10 नवंबर तक एक पखवाड़े तक जिले में दंपती से संपर्क किया गया. इस दौरान सी3 व पंचायत प्रतिनिधि कार्यकर्ताओं ने ऐसे पात्र दंपत्तियों से संपर्क किया, जिन्हें परिवार नियोजन के संबंध में काउंसलिंग की जरूरत है. साथ ही, उच्च जोखिम वाली गर्भवती महिलाओं के लिए परिवार नियोजन सेवाएं जिन्होंने पिछले एक वर्ष के भीतर जन्म दिया है, नवविवाहित जोड़े जिनकी शादी पिछले एक वर्ष के भीतर हुई है और पात्र जोड़े जिनके तीन या अधिक बच्चे हैं। लेने के लिए प्रेरित

यह भी पढ़े  अब छपरा से चलेगी रांची एक्सप्रेस, पहले डेहरी फिर सासाराम उसके बाद आरा से अब खुलेगी यह ट्रेन

आप मुफ्त हेल्पलाइन नंबर 104 पर कॉल कर सकते हैं। आप संपर्क करके सलाह ले सकते हैं

संबुल आरा मुखिया ने कहा कि बच्चों के जन्म में तीन साल का अंतर मां और बच्चे को बेहतर स्वास्थ्य प्रदान करने के अलावा मातृ मृत्यु और शिशु मृत्यु दर को भी कम करता है। इसलिए यह बहुत जरूरी है कि दो बच्चों के जन्म के बीच तीन साल का अंतर होना चाहिए। वहीं, आशा कार्यकर्ता नईमा खातून ने बताया कि आम जनता हेल्पलाइन नंबर 104 पर नि:शुल्क संपर्क कर परिवार नियोजन कार्यक्रमों/साधनों से संबंधित सभी सूचनाओं की जानकारी प्राप्त कर सकती है. तिलोथू प्रखंड में विभिन्न पंचायतों की महिला पंचायत प्रतिनिधियों ने अभियान चलाकर लोगों को जागरूक किया. इसके अलावा मुखिया की ओर से तय किया गया कि दंपती के संपर्क के दौरान जो स्थिति पैदा हुई है. सूची के साथ आवेदन तैयार कर पीएचसी प्रभारी तिलोथू को दिया जाएगा। पंचायत के लिए संसाधन भी मांगेंगे।

Leave a Comment