सासाराम के एक निजी स्कूल इंडिया किड्स फाउंडेशन गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर गुरु गोष्ठी का आयोजन किया गया

एबीआर किड्स और एबीआर किड्स संयुक्त गुरु गोष्ठी का इस्तेमाल गुरु पूरमानी के आधार पर संपत्ति में किया गया था। स्कूल परिषद ने अघोर मंत्र और गुरु वंदना से परिवार को बनाया परिवार। पुराने शिक्षक नंदलाल शशि ने गुरु अघोरेश्वर के जीवन, गोकू राम रामायण और कार्य क्षेत्र से संबंधित जानकारी दी। इसके अलावा गुरु की महिमा का वर्णन गुरु अघोरेश्वर द्वारा स्थापित सर्वेश्वरी समूह और समाज में कुष्ठ और रोशन, रोग-संक्रामक, बुरे सामाजिक गुणों से संबंधित है। गुरु अघोरेश्वर की शिक्षाओं को दिव्य शिक्षक ने परिभाषित किया है। लड़की के लिए यह जरूरी है कि उसने ऐसा किया हो।

मानक एक समान और सम्मानजनक होने चाहिए

कार्यक्रम में स्वाध्याय डॉ. पृथ्वीपाल सिंह ने कहा कि वायरलेस के प्रति सहज और सम्मानजनक व्यवहार। साथ ही अपने बकाया के प्रति प्रतिबद्धता, गुरु की सर्वोत्तम सेवा। गुरु के महत्व का वर्णन किया गया है। डॉ. सिंह ने स्वयं को ध्वनि, छल, असत्य, मिथ्या ध्वनि और सत्य की सोच से स्थायी रूप से दूरी बनाने के लिए भी कहा। इस स्कूल के शिक्षकों और अन्य को पोस्ट टू पोस्ट पोस्ट पोस्ट पोस्ट करें।

इस आयोजन से बच्चों में जाएगा अच्छा संदेश गुरु पूर्णिमा के शुभ अवसर पर आयोजित गुरु गोष्ठी से स्कूल के सारे बच्चों को शांति का पाठ पढ़ाया गया और कैसे महात्मा बुध अपने जीवन को शांति में बनाए रखते थे उसकी शिक्षा दी गई

यह भी पढ़े  Tilouthu Update -तिलौथू प्रखण्ड के चर्चित व प्रसिद्ध गुरु श्री संतोष कुमार पाठक के निधन पर क्षेत्र शोकाकुल

Leave a Comment