Ankit Gupta of Sasaram Became a Scientist In ISRO – सासाराम के 22 वर्षीय अंकित गुप्ता बने इसरो में विज्ञानिक

Ankit Gupta बने इसरो में विज्ञानिक-कहते हैं सफलता किसी की मोहताज नहीं होती। मेहनत से आगे बढ़ने वालों को कोई भी बाधा रोक नहीं सकती। ऐसे उदाहरण को सच कर दिखाया बिहार के सासाराम के अंकित ने, 22 वर्ष की उम्र अंकित ने वो कर  दिखाया जिसे पाना हर स्टूडेंट का सपना होता है, रोहतास के 22 वर्षीय अंकित गुप्ता ने इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी त्रिवेंद्रम केरल  मैं एयरोस्पेस इंजीनियरिंग से बीटेक कर रहे सासाराम के तकिया निवासी अंकित गुप्ता का चयन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन इसरो में वैज्ञानिक के रूप में हुआ है अंकित का चयन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान परिषद में अंतरिक्ष विज्ञानी के लिए हुआ है,इतनी छोटी उम्र इतनी बड़ी सफलता हासिल की,अंकित के इस सफलता के बाद रोहतास जिले ही नहीं बल्कि पूरे बिहार का नाम रोशन किया  है|

फाइल फोटो -Ankit Gupta

10 वर्ष की उम्र में Ankit Gupta के सर से उठ गया था  पिता का साया 

जब अंकित चौथी कक्षा में पढ़ता था तब उसके  पिता का देहांत हो गया था इसके कारण अंकित के पढ़ाई में भी बाधा आई थी एक समय तो ऐसा लगा था कि अंकित इससे आगे कुछ नहीं कर सकता लेकिन पिता के गुजर जाने के बाद अंकित ने अपनी आगे की पढ़ाई नाना के घर उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से की 

यह भी पढ़े  रोहतास जिले में 18 जुलाई तक बारिश की कोई आसार नहीं, रोहतासवासी परेशान

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से हुआ चौथी कक्षा से लेकर बारहवीं कक्षा तक पढाई

बारहवीं कक्षा के पढाई के बाद Ankit Gupta ने  1 साल जेईई मेंस  की प्रवेश परीक्षा की   तैयारी की उसके बाद अंकित जेईई मेंस में चयनित हुआ जेईई मेंस में अच्छे अंक लेन से अंकित का नामांकन इंडियन इंस्टीट्यूट आफ स्पेस साइंस एंड टेक्नोलॉजी (त्रिवेंद्रम) हो गया |जो की   हिंदुस्तान के टॉप कॉलेजों में से एक माना जाता है ,जहां से पढ़ाई पूरी करने के बाद  पिछले महीने के 24 दिसंबर को अंकित का चयन इसरो के विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र में अंतरिक्ष वैज्ञानिक के रूप में हुआ है,Ankit Gupta इसरो में नियुक्त प्रस्ताव मिला है तीन भाइयों में दूसरे नंबर पर अंकित है 

सोशल साईट https://www.solutioninn.com/ पर Ankit Gupta का विवरण

सोशल साईट के माध्यम से बोलते है Ankit Gupta


मैं कौन हूँ?


मैं एक एयरोस्पेस इंजीनियर हूं और मुझे ट्यूशन और समस्या हल करने का अनुभव है। मैं एक सक्रिय Chegg विशेषज्ञ हूं और पिछले 2 वर्षों से उसी पर सवाल हल कर रहा हूं। मैं स्नातक पाठ्यक्रम का पीछा कर रहा हूं और मुझे लगता है कि मैं गणित और भौतिकी पर आधारित प्रश्नों को संभालने में सक्षम हूं, क्योंकि मेरे पेशे को उसी के बेहतर ज्ञान की आवश्यकता है। अरबों के देश में, मैंने लाखों लोगों को पार किया है और एशिया के पहले अंतरिक्ष संस्थान, भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी संस्थान में से एक में भर्ती हुआ है। मैं अपने स्कूल के दिनों से ही गणित और भौतिकी में अच्छा था और मुझे गर्व महसूस होता है कि इसके लिए मेरा प्यार लगातार बढ़ रहा है। मुझे शिक्षण और समस्याओं को हल करना बहुत पसंद है, यह न केवल छात्रों की मदद करता है बल्कि पारस्परिक रूप से बढ़ने में मदद करता है, Chegg पर अनुभव ने मुझे एक हाथ का अनुभव दिया और मुझे एक और कदम उठाने के लिए योग्य कर दिया, यानी सॉल्विन पर एक ट्यूटर होने के नाते |

यह भी पढ़े  Sasaram:जापान के पूर्व प्रधानमंत्री शिंजो आधे की मौत के बाद भारत में राष्ट्रीय शोक, सासाराम रेलवे स्टेशन पर झुकाया गया तिरंगा


मुझे क्या दिलचस्पी है?


मुझे स्केचिंग और डूडल बनाना पसंद है। गाने सुनना और द्वि घातुमान मेरी पसंदीदा चीजें हैं।


For more information about Ankit Gupta Click Here

रोहतास जिले की छोटी बड़ी ख़बर पढने के लिए यहाँ क्लिक करे

इसरो में Ankit Gupta का चयन होने पर है,पुरे रोहतास जिले में है ख़ुशी की लहर

इसरो में चयन होने पर परिवार के लोग काफी खुश हैं, तथा अंकित के उज्जवल भविष्य की कामना कर रहे हैं  अपनी सफलता पर Ankit Gupta ने कहा मैं बचपन से ही लक्ष्य के प्रति संकल्पित रहा अपने समय का बेहतरीन उपयोग कर कोई भी अपनी मंजिल आसानी से पा सकता है टाइम मैनेजमेंट के मदद से बेहतर प्रदर्शन किया जा सकता है,अंकित ने कहा सबसे  पहेले विद्यार्थी अपनी रूचि को जाने की वो किस फील्ड में ज्यादा रूचि रखते हा,उसी की पढाई आगे जरी रखे, मेहनत करते रहने से कीसे भी मुकाम को हासिल किया जा सकता है,जैसा की आप सबको को ज्ञात हो की  अंकित के पिता का निधन उसके बचपन में ही हो गया था, जबकि चौथी कक्षा में पढ़ता था अंकित ने यह मकाम अपने बुरे हालात से जंग लड़ते हुए हासिल किया है |

Leave a Comment